446 वीं हल्दीघाटी युद्धतिथि पर शहीदों को दीपांजलि व स्वरांजलि का होगा आयोजन

खमनोर । प्रभु श्री राम के वंशज,भारत के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी वीर शिरोमणी, प्रातः स्मरणीय महाराणा प्रताप द्वारा मातृभूमि की आन,बान एवं शान की रक्षार्थ 18 जून 1576 को आम जन के सहयोग से लड़े गए हल्दीघाटी के जनयुद्ध में सभी जाति धर्म के कई देश भक्त शहीद हुए थे।
शौर्य एवं वीरता दिवस के रुप में हल्दीघाटी पर्यटन समिति द्वारा प्रतिवर्ष युद्ध तिथि पर दीपांजलि अर्पित कर हल्दीघाटी रणक्षेत्र में युद्ध दिवस के आयोजन में भव्यता देने का नवाचार अपनाया व क्षेत्र के युवाओं को इस समारोह से जोड़ने का प्रयास आरम्भ किया। ग्राम पंचायत खमनोर द्वारा युद्धतिथि समारोह को प्रतिवर्ष भव्यता से मनाते हुए स्थानीय आयोजन के रूप में स्वीकृति मिलना क्षेत्रवासियों के लिए हर्ष का विषय है।

इस वर्ष युद्धतिथि पर प्रायोजक ग्राम पंचायत खमनोर एवं आयोजक हल्दीघाटी पर्यटन समिति के सानिध्य में 18 जून को सायंकाल खमनोर गांव स्थित हल्दीघाटी के मुख्य युद्धस्थल रक्त तलाई में दीपांजलि समारोह व विनोद दाजी बजरंग सत्संग मंडल द्वारा स्वरांजलि समारोह आयोजित किया जा रहा है। आमजन द्वारा युद्ध तिथि के महत्व को समझते हुए शहीदों की स्मृति में होने वाले दीपांजलि के आयोजन के प्रति खासा उत्साह है।

-ः हल्दीघाटी का जनयुद्ध एक नजर  :-
मघ्य कालीन भारत के इतिहास में स्वतन्त्रता के लिए लड़ने वाले अनेक महापुरूष हुए लेकिन महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी और गुरू गोविन्द सिंह के नाम उनमें अग्रणी हैं। राणा प्रताप के लिए स्वातन्त्रय धर्म था और उनके जीवन की यह टेक थी – ‘ जो ढृढ़ राखे धर्म को,तिही राखे करतार ’ – और इस टेक की स्वतन्त्रता को बनाए रखने के संकल्प को उन्होंने भीषण परिस्थितियों में जिस दृढ़ता से निर्वाह किया उसने सारे भारत देश को अनुप्राणित किया। वे राजकुल में उत्पन्न हुए थे और उनके सामने अकबर और अपने ही भाई राजपूतों से अपनी स्वतन्त्रता बनाए रखनी की समस्या थी। उन्होंने अपने राजपूत अनुयायियों में ही नहीं अपने राज्य के आदिवासी भीलों में भी स्वतन्त्रता प्रेम की ऐसी अग्नि प्रज्वलित कर दी कि वे अपने समय के संसार के सबसे शक्तिशाली सम्राट अकबर से आजीवन लोहा ले सके । कर्नल टॉड ने उनके इस आजीवन युद्ध का जो वर्णन किया है वह उनकी महानता का परिचय देता है ।

युद्धभूमि हल्दीघाटी में हार्दिक स्वागत

 

मेवाड़ के अमर तीर्थ रक्ततलाई हल्दीघाटी में आपका स्वागत अभिनंदन।

देशभर से आने वाले पर्यटकों हेतु मुख्य रणभूमि रक्ततलाई ख़मनोर,शाहीबाग,महाराणा प्रताप स्मारक व चेतक समाधि,बलीचा तक फैले हल्दीघाटी युद्धक्षेत्र में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा कोई शुल्क नहीं लिया जाता है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक आप इन स्थलों का अवलोकन कर सकते है। मुख्य युद्धस्थल रक्ततलाई से स्मारक तक सभी जगह निःशुल्क प्रवेश यदि कोई लपकागिरी करते दिखे तो एएसआई को सूचित किया जा सकता है। अधिकांश पर्यटक आज भी भ्रमित होकर जाने अनजाने निजी दुकानदारी के कारण मूल शहीद स्थलों को देखने से वंचित रह जाते है
हल्दीघाटी में सरकारी चेतक गेस्ट हाउस के बंद होने व राजकीय संग्रहालय नहीं होने का लाभ उठाते हुए पूर्व के एक सरकारी ठेकेदार द्वारा राष्ट्रीय स्मारक के नजदीक ही संग्रहालय नामक हाटबाजार लगा विकास की मूल योजनाओं को वर्षों से प्रभावित किया जाना सरकारी तंत्र पर भी सवालिया निशान लगा सकता है। भगवान राम के वंशज महाराणा प्रताप के नाम पर अधिकांश सिर्फ पेट पाला जा रहा है! हल्दीघाटी के विकास का सपना आज भी अधूरा है। मूल हल्दीघाटी के विकास में यह निजी दुकानदारी सबसे बड़ा रोड़ा बन कर आज प्रत्यक्ष स्मारक के सामने खड़ी है।
देशभर से आने वाले सभी पर्यटकों से निवेदन रहेगा कि स्वयं शहीद स्थलों पर जाकर माटी से तिलक कर स्वयं को गौरवांवित महसूस करे।